आमेर के किले का इतिहास | History Of Amber Fort In Hindi

आमेर के किले का इतिहास | History Of Amber Fort In Hindi

आमेर के किले का इतिहास | History Of Amber Fort In Hindi

History Of Amber Fort In Hindi

आमेर किला (Amber Fort) आमेर में स्थापित है. आमेर 4 वर्ग किलोमीटर (1.5 वर्ग मीटर) में फैला एक शहर है जो भारत के राजस्थान राज्य के जयपुर से 11 किलोमीटर दुरी पर स्थित है. Amber Fort ऊँचे पर्वतो पर बना हुआ है, जयपुर क्षेत्र का यह मुख्य पर्यटन क्षेत्र है. असल में आमेर शहर को मीनाओ ने बनवाया था और बाद में राजा मान सिंह प्रथम ने वहा शासन किया.

आमेर का किला हिन्दू कला के लिये प्रसिद्ध है. किले में बहोत से दर्शनीय पथदीप, दरवाजे और छोटे तालाब बने हुए है. आमेर किले में पानी का यह मुख्य स्त्रोत है.

History Of Amber Fort In Hindi 3

आमेर के कलात्मक माहौल को हम उसकी दीवारो में देख सकते है. जो लाल पत्थर और मार्बल से बनी हुई है. किले में आँगन भी बना हुआ है. किले में दीवान-ए-आम, दीवान-ए-खास और शीश महल ओट जय मंदिर और सुख निवास भी बना हुआ है जहा हमेशा ठंडी और ताज़ा प्राकृतिक हवाये चलती रहती है. इसीलिये आमेर किले को कई बार आमेर महल भी कहा जाता है. इस महल में पहले राजपूत महाराजा और उनका परीवार रहता था. किले के प्रवेश द्वारा गणेश गेट पर चैतन्य पंथ की देवी सिला देवी का मंदिर बना हुआ है जो राजा मानसिंह को दिया गया था जब उन्होंने 1604 में बंगाल में जैसोर के राजा को पराजीत किया था.

जयगढ़ किले के साथ यह महल चील का टीला के ऊपर ही स्थापित किया गया है. महल और जयगढ़ किले को एक कॉम्पलेक्स ही माना जाता है क्योकि ये दोनों ही एक गुप्त मार्ग से जुड़े हुए है. युद्ध के समय इस मार्ग का उपयोग शाही परिवार के सदस्यों को बाहर निकालने में किया जाता है जिन्हें गुप्त रास्ते से आमेर किले से निकालकर जयगढ़ किले में ले जाया जाता था.

प्रारंभिक इतिहास

कचवाहस् के समय आमेर एक छोटा महल था जिसे मीनाओ ने बनवाया था, उन्होंने इस महल को उनकी मातृ देवी गट्टा रानी के लिये बनवाया था. कहा जाता है की वास्तव में या किले का निर्माण 967 CE में राजा मान सिंह ने किया था. अम्बेर के कछवाह राजा राजा मान सिंह के शासनकाल में इस किले का निर्माण किया गया था और साथ की कलाकृतियाँ भी की गयी थी. उनके जाने के बाद जय सिंह प्रथम ने भी आमेर किले पर बहोत समय तक राज किया था, जबतक की कछवाह अपनी राजधानी को जयपुर में स्थानांतरित नही कर लेते.

History Of Amber Fort In Hindi 2

आमेर किले की कुछ रोचक बाते –

  • आमेर का नामकरण अम्बा माता से हुआ था, जिन्हें मीनाओ की देवी भी कहा जाता था.
  • आमेर किले की आतंरिक सुंदरता में महल में बना शीश महल सबसे बड़ा आकर्षण है.
  • राजपूतो के सभी किलो और महलो में आमेर का किला सबसे रोमांचक है.
  • आमेर किले की परछाई मौटा झरने में पड़ती है, जो एक चमत्कारिक परियो के महल की तरह ही दीखता है.
  • या किले का सबसे बड़ा आकर्षण किले के निचे है जहा हाथी आपको आमेर किले में ले जाते है. हाथी की सैर करना निश्चित ही सभी को आकर्षित करता है.
  • अम्बेर में स्थापित, जयपुर से 11 किलोमीटर की दुरी पर स्थित आमेर किला कछवाह राजपूतो की राजधानी हुआ करती थी, लेकिन जयपुर के बनने के बाद जयपुर उसकी राजधानी बन गयी थी.
  • महल का एक और आकर्षण चमत्कारिक फूल भी है, जो एक मार्बल का बना हुआ है और जिसे साथ अद्भुत आकारो में बनाया गया है. मार्बल द्वारा बनी यह आकृति सभी का दिल मोह लेती है.
  • महल का एक और आकर्षण प्रवेश द्वार गणेश गेट है, जिसे प्राचीन समय की कलाकृतियों और आकृतियों से सजाया गया है.

History Of Amber Fort In English

History Of Amber Fort In Hindi

Amer Fort is situated in Amer. Amer is a town spread over 4 sq km (1.5 square meters) which is located 11 kilometers away from Jaipur, India’s Rajasthan state. Amer Fort is built on high mountains, this is the main tourist area of ​​the Jaipur region. In fact, Amber town was built by Meenao and later Raja Man Singh I ruled there.

Amber’s Fort is famous for its Hindu art. In the fort, there are scenic street lights, doors and small ponds. This is the main source of water in Amber Fort.

We can see Amer’s artistic atmosphere in its walls. Which is made of red stone and marble. The courtyard is also built in the fort. Dewan-i-Aam, Diwan-i-Khas and Shish Mahal Oat Jai Temple and Hukam Niwas are also built in the fort, where there is always a cold and fresh natural breeze running. Therefore, Amber Fort is sometimes called Amber Mahal. In this palace, Rajput Maharaj and his family lived first. The entrance of the fort is built on Ganesh Gate, a temple of Goddess Silla Devi of Chaitanya Panth, which was given to King Mansingh when he defeated the King of Jessore in Bengal in 1604.

This castle with the fort of Jaigad has been established on the top of the hill of the eagle. The castle and the fort of Jaigad are considered to be a complex as both of them are connected by a secret path. At the time of the war, this route is used to evacuate the members of the royal family, who were taken from the Amber fort by secret passage and taken to the fort of Jaigad.

Amer Fort early History –

Amber was a small palace that was built by Meenau, during the time of Kachavas, he built this palace for his mother goddess Gatta Rani. It is said that in reality or the fort was constructed in the year 967 by Raja Man Singh.

This fort was constructed during the reign of King King Singh of Kutch, Amber, and along with art works was also done. After his departure, Jai Singh I also ruled the Amber Fort for a long time, until the Kutchah could transfer his capital to Jaipur.

Interesting Facts About Amer Fort Jaipur-

Amber was named after Amba Mata, who was also called Goddess of Meenauo.  History Of Amber Fort In Hindi

  • Sheesh palace built in the palace in the interior beauty of the Amber Fort is the biggest attraction.

Sheesh Mahal, built in the palace in the interior beauty of Amber Fort, is the biggest attraction. All the kilos of Rajputs and the fort of Amber is the most exciting.

The shadow of the Amarnor fortress falls in the spring, which looks like a palace of a wondrous bride. Or the biggest attraction of the fort is below the fort, where the elephant takes you to Amber Fort. The journey of elephants certainly attracts everyone.

Founded in Amber, situated at a distance of 11 km from Jaipur, the Amber Fort was the capital of the Kachwah Rajputa, but after the formation of Jaipur, Jaipur became its capital.

Another attraction of the palace is the peculiar flower, which is made of a marble and with which it is made in wonderful shape. The shape made by Marble attracts everyone’s heart.

Another attraction of the palace is the gateway Ganesh Gate, decorated with ancient artifacts and shapes.

So this is the History Of Amber Fort In Hindi and English, I would like to thank you for your presence and we also hope that you found this article interesting Hope to see you again reading such more useful and interesting articles. Stay connected with Awarepedia.

One thought on “आमेर के किले का इतिहास | History Of Amber Fort In Hindi

  1. मैंने भी जयपुर मैं आमेर के किले को देखा हैं| आपने बहुत ही अच्छी जानकारी आमेर के किले के बारे में दी है. आपका धन्यवाद

Comments are closed.